महाराष्ट्र में सत्ता बचाने की लड़ाई में शिवसेना अपने राजनीतिक जीवन के सबसे बड़े संकट में आ गई है. शिवसेना के बागी विधायक एकनाथ शिंदे ने अपने साथ कुछ 46 विधायकों के होने का दावा किया है. सीएम उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र की जनता को संबोधित करते हुए कहा कि अगर एकनाथ शिंदे और बागी विधायक सामने आकर कहेंगे तो मैं मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दूंगा. उन्होंने यहां तक कह दिया है कि सीएम पद छोड़िये, मैं तो शिवसेना प्रमुख का पद भी छोड़ने को तैयार हूं. इसके बाद सीएम उद्धव ठाकरे और एनसीपी प्रमुख शरद पवार के बीच मुलाकात हुई. देर रात उद्धव ठाकरे सीएम आवास ‘वर्षा; छोड़कर मातोश्री शिफ्ट हो गए हैं.

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे सीएम आवास वर्षा से अपने साथ सामान भी ले गए हैं. उद्धव ठाकरे के साथ उनकी पत्नी रश्मि ठाकरे, बेटे आदित्य ठाकरे और तेजस ठाकरे भी मौजूद रहें. शिवसैनिकों की भारी भीड़ के बीच में सीएम उद्धव ठाकरे अपने परिवार के साथ बांद्रा स्थित अपने घर मातोश्री में शिफ्ट हो गए हैं. मुख्यमंत्री के घर मातोश्री के बाहर हजारों की संख्या में शिवसैनिक जमा हैं. शिवसैनिकों ने उद्धव ठाकरे का स्वागत उनका और शिवसेना के जयकारे लगाए. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे बांद्रा वर्ली सी लिंक से जैसे ही बांद्रा की तरफ बढ़े तो सैकड़ों की संख्या में खड़े शिवसैनिक उद्धव ठाकरे की जय-जयकार के नारे लगाने लगे. शिवसैनिकों के इस उत्साह को देखते हुए मुख्यमंत्री गाड़ी में से उतर गए और उन्होंने करीब एक मिनट तक शिवसैनिकों का अभिवादन स्वीकार किया. उसके बाद फिर मुख्यमंत्री मातोश्री की तरफ आगे बढ़ गए.

एकनाथ शिंदे खेमे ने दावा किया है कि उनके साथ जो लोग हैं, वही असली शिवसेना हैं. एकनाथ शिंदे ही पार्टी के विधायक दल के नेता हैं. ऐसे में गुरुवार को कुछ और विधायक जुड़ने के बाद एकनाथ शिंदे राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को पत्र लिख सकते हैं. उसमें ये कहा जाएगा कि मैं पार्टी का ग्रुप लीडर हूं और हमने जो सरकार को समर्थन दिया है वो अब वापस ले रहे हैं. उसके बाद अगर उद्धव ठाकरे इस्तीफा नहीं देते हैं तो फिर राज्यपाल उनको फ्लोर टेस्ट  कराने का आदेश दे सकते हैं.

You missed